हमें कॉल करें: 01386-262214
 

हमारे बारे में

लैंसडौन छावनी उत्तराखंड राज्य के जिला पौड़ी गढ़वाल में स्थित है । सन 1886 में सी-इन-सी भारत के फील्ड मार्शल सर एफ. एस. रोबर्ट्स की सिफारिस पर गढ़वाल की एक अलग रेजिमेंट बनाने का निर्णय लिया गिया था ।

यह स्थल, जो कभी एक अछुता जंगल था, 6000 फीट पर स्थित है एंव कालुडांडा के नाम से जाना जाता है । सर्वप्रथम ब्रिगेडियर जनरल जे. मुर्रे ने इस स्थान को छावनी व रेजिमेंट के स्थान के लिए अनुमोदित किया था । जीओसी रोहिलखंड जिला- कालुडांडा में अधिकांशतः ओक और बुरांस के जंगल है जिसे धूमिल मौसम में दूर से देखने पर विशेष रूप से एक धुंधला और काला सा रंग प्रतीत होता है इसलिए इसका नाम कालुडांडा पड़ा ।

21 सितंबर, 1890 में भारत के तत्कालीन वायसराय लॉर्ड हेनरी लैंसडाउन के नाम पर कालुडांडा को लैंसडौन नाम दिया गया था  ।

गढ़वाल राइफल्स की पहली बटालियन ले० कर्नल इ. प. मैनवारिंग के नेतृत्व में, जो कि  4 नवम्बर सन 1887 में कालुडांडा आई थी, ने अपने अस्थाई पोस्ट ऑफिस परेड ग्राउंड कैंप को अपने मेन परेड ग्राउंड कैंप से जोड़ने का कार्य किया । मैनवारिंग लाइन्स गढ़वाल राइफल्स की टुकड़ी द्वारा निर्मित पहले बैरक सेट थे । इसलिए नई लाइन्स के नाम “ मैनवारिंग लाइन्स” गढ़वाल राइफल्स के पहले कमांडिंग ऑफिसर के नाम पर रखा गया ।

लैंसडाउन छावनी सन 1887 मे अस्तित्व मे  आई । अब यह गढ़वाल राइफल्स रेजिमेंट का ट्रेनिंग सेंटर है 

लैंसडौन में कोई महत्वपूर्ण स्थल नहीं है लेकिन यह कई अंतरराष्ट्रीय स्तर के स्थलों के मार्ग के मध्य में आता है जो कि अपने खास महत्व के लिए जाने जाते है जैसे कि बद्रीनाथ, हेमकुंड, केदारनाथ, कोर्बेट नेशनल पार्क और फूलों कि घाटी इत्यादि ।

लैंसडौन मोटे ओक और देवदार के जंगलों से घिरा हुआ, अन्य स्थलों कि अपेक्षा सामान्य भीड़-भाड़ एवं हलचल से रहित एक  आरामदायक व् शांत छुट्टी व्यतीत करने के लिए एक आकर्षक जगह है । लैंसडौन का नैसर्गिक सौंदर्य और अच्छा वातावरण है । देवदार और ओक के पेड़ एक स्वस्थ जलवायु प्रदान करते हैं । कैंट बोर्ड शहर को डेज़ी कि तरह ताज़ा रखता है ।

लैंसडौन छावनी परिषद का उद्देश्य लैंसडाउन छावनी के सिविल निवासियों को नागरिक सेवाएं प्रदान करना जैसे कि सफाई करना, पानी कि आपूर्ति, चिकित्सा सुविधा, शिक्षा, स्ट्रीट लाइट, सार्वजनिक मूत्रालय सफाई करना और कैंट फण्ड को बनाये रखना, सार्वजनिक सड़को का रखरखाव, इमारतें व् पार्क इत्यादि को व्यवस्थित रखना आदि । यह कैंट एक्ट 2006 के प्रावधानों के अंतर्गत काम करता है ।

लैंसडाउन छावनी कि स्थापना सन 1887 में हुई थी ।

छावनी की श्रेणी – तृतीय

क्षेत्रफल – 1503.8339 एकड़

जनसंख्या 2011 की जनगणना के अनुसार

(क) सिविल – 3141
(ख) सेना – 2526

 
 
 
कॉपीराइट 2014 © छावनी बोर्ड लैंसडाउन