हमें कॉल करें: 01386-262214
 

परिवेश

  1. ‘चाल खल’ नामक एक परियोजना शुरू हुई जिसमें लगभग 60 बड़े 4x4x3 आकार के एवम 100 छोटे आकार के  प्राकृतिक स्प्रिंग्स के ऊपर पैदल यात्री शैली में पहाड़ों पर गड्ढे खोदे गए, जो वर्षा जल को ठहराकर गड्ढो के नीचे प्राकृतिक जल स्रोत को रिचार्ज करते हैं।
  2. छावनी को नो पॉलिथीन जोन घोषित किया गया  ।
  3. पर्यावरण के संरक्षण के लिए व्यापक पैमाने पर वृक्षारोपण अभियान किये गए ।
  4. जी. आर. आर. सी. लैंसडौन कैंट को इंदिरा गाँधी पर्यावरण पुरस्कार 2007 से सम्मानित किया गया है ।
  5. वर्ष 2017-18 में 1500 पौधों को लगाया गया | उनमें से 60%  पौधे / छोटे पौधे बच गए हैं।
  6. कॉम्पैक्ट लगाए गए क्षेत्रों की बाड़ लगाना पहले ही 6 स्थानों पर किया जा चुका है और सड़क के वृक्षारोपण पर वृक्ष गार्ड तय किए गए हैं।
  7. जंगल को आग से बचाने के लिए, बोर्ड मौसमी आधार पर आग निरीक्षक संलग्न करता है जो वृक्षारोपण के लिए भी मदद करते हैं।
 
 
 
कॉपीराइट 2014 © छावनी बोर्ड लैंसडाउन